top of page
INTRO_BN 01.png

Manufacturing>Welding

वेल्डिंग

रेडिएटर्स के उत्पादन में वेल्डिंग का उपयोग एक पूर्ण रेडिएटर संरचना बनाने के लिए हीटिंग या उच्च दबाव के माध्यम से विभिन्न घटकों या तत्वों को एक साथ जोड़ना है। रेडिएटर्स में आमतौर पर पंखे, हीट सिंक और कंडेनसर ट्यूब जैसे कई घटक होते हैं, जिन्हें रेडिएटर को इकट्ठा करने के लिए वेल्डिंग की आवश्यकता होती है।

वेल्डिंग प्रक्रिया के दौरान, वेल्डिंग सामग्री को पिघलाने के लिए पर्याप्त उच्च तापमान तक गर्म किया जाता है, फिर यह वर्कपीस की सतह से संपर्क करता है, और ठंडा होने के बाद एक मजबूत वेल्डेड जोड़ में जम जाता है। सामान्य वेल्डिंग विधियों में मैनुअल वेल्डिंग, टीआईजी वेल्डिंग, एमआईजी वेल्डिंग, लेजर वेल्डिंग आदि शामिल हैं। विभिन्न वेल्डिंग विधियों के अलग-अलग फायदे और नुकसान हैं, और विशिष्ट अनुप्रयोग परिदृश्य के आधार पर उपयुक्त वेल्डिंग विधि का चयन किया जाना चाहिए।

रेडिएटर निर्माण के लिए, वेल्डिंग तकनीक का महत्व दीर्घकालिक संचालन के दौरान रेडिएटर की स्थिरता और विश्वसनीयता सुनिश्चित करने में निहित है। रेडिएटर्स को उपयोग के दौरान उच्च तापमान और दबाव का सामना करने की आवश्यकता होती है, इसलिए वेल्डिंग जोड़ों की ताकत और स्थिरता रेडिएटर के समग्र प्रदर्शन पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालती है।

आपका फायदा

वेल्डिंग जोड़ अधिक मजबूत और सटीक होते हैं। अधिक उन्नत वेल्डिंग तकनीकों और सामग्रियों को नियोजित करके, वेल्डिंग जोड़ों की ताकत और स्थिरता को बढ़ाना संभव है, साथ ही वेल्डिंग में उच्च परिशुद्धता प्राप्त करना संभव है, जिससे रेडिएटर के समग्र प्रदर्शन और गर्मी अपव्यय दक्षता में सुधार होता है।

वेल्डिंग प्रक्रिया अधिक पर्यावरण अनुकूल हो जाती है। पर्यावरण में प्रदूषण को कम करके और ऑपरेटरों को नुकसान को कम करके, रेडिएटर की उत्पादन गुणवत्ता और छवि को बढ़ाया जाता है।

1. 

2.

images (1).jfif
images (2).jfif
bottom of page